डॉ. अय्यूब ने 320 बार लड़की के साथ पुलिस की जांच में हुआ खुलासा!


Post Date : 04/03/2017

यह है पूरा मामला - लेकिन समाज में लोक लाज के डर से बेटी ने किसी को नहीं बताया। आरोप है कि जब बेटी की हालत बिगड़ गई तो घरवालों ने उसे ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया था जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी। इस घटना के बाद एसएसपी की दखल के बाद विधायक के खिलाफ केस मड़ियांव कोतवाली में दर्ज किया गया। पुलिस ने मामले की छानबीन की तो चौंकाने वाले तथ्य सामने आये। जानकारी के मुताबिक, संतकबीरनगर के एक गांव के रहने वाले रामू और उनकी मां सुनीता ट्रॉमा सेंटर में अपनी 22 वर्षीय बेटी रीना (सभी नाम काल्पनिक) का इलाज करवा रहे हैं। रामू का आरोप है कि एक बार जनसभा के दौरान उनका परिवार भी पहुंचा था। परिवार में उनकी बेटी भी साथ में गई थी। इस दौरान घरवाले जब अय्यूब से मिलने गए तो उन्होंने बेटी के बारे में पूछा। यह बात साल 2012 की है तब उनकी बेटी हाईस्कूल में थी। परिजनों ने बताया कि तब अय्यूब ने उनसे कहा कि बेटी पढ़ने में तेज है उसे डॉक्टरी की पढ़ाई करवाओ तो भविष्य बन सकता है। उनकी बात मानकर घरवालों ने बेटी को अय्यूब के पास पढ़ेने के लिए भेज दिया। इसके बाद अय्यूब ने बेटी का यौन शोषण शुरू कर दिया। बेटी ने घरवालों को यह बात अपने भविष्य और समाज में बदनामी के डर से नहीं बताई थी। आरोप है कि इस दौरान गर्भपात के लिए हानिकारक दवाएं भी उनकी बेटी को खिलाईं गईं। उसे पिछले 8 माह से रक्तश्राव हो रहा था, हालत अधिक बिगड़ने पर उसे परिवार वाले लखनऊ के ट्रॉमा सेंटर पहुंचे। यहां परिवारवालों ने मीडिया के सामने पूरा मामला उजागर कर दिया। तभी देर रात में लड़की की इलाज के दौरान मौत हो गई।


© 2016 -2017 HindustanResult.com All Rights Reserved